RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने मीडिया ब्रीफिंग के दौरान ये ऐलान किया, कि रेपो  रेट में 40 बेसिस प्वाइंट की कटौती की है. अभी रेपो रेट 4.4 फीसदी था. जिसे गिराकर 4 फीसदी कर दिया गया है.

भारतीय रिज़र्व बैंक – (आरबीआई) ने शुक्रवार सुबह एक बड़ा फैसला लिया है. कि रेपो रेट को कम किया जा रहा है. मुद्रास्फीति के दृष्टिकोण से अत्यधिक अनिश्चित है.
वहीं रिवर्स रेपो रेट 3.5 फीसदी कम कर दिया गया है.

रेपो रेट कम करने का क्या मतलब होता है .

आसान भाषा में बताएं तो रेपो रेट में कटौती करने का मतलब यह होता है, कि इसमें बैंक की कॉस्ट ऑफ फण्ड को कम दिया जाता है. जिससे कर्ज लेने में राहत मिल जाती है. इसके बढ़ने और घटने के सीधा असर कारोबारियों पर पड़ता है.

शक्तिकांत दास ने कहा, कि इस फैसले को मॉनेटर पॉलिसी कमिटी की बैठक में लिया गया है, लॉकडाउन के कारण  देश की अर्थव्यवस्था डगमगा गई है. अब केवल खेती और उससे जुड़े उपकरणों से ही भविष्य की उम्मीद दिख रही है .

Follow Us