एपीजे अब्दुक कलाम तकनीकी विश्विद्यालय ने भी एक अहम फैसला लिया है. लॉकडाउन के चलते न केवल कारोबार में ही इसका असर देखने को नहीं मिला, बल्कि शिक्षा क्षेत्र में भी इसका काफी असर देखने को मिला है.


PHD के शोधकर्ताओं के लिए लॉकडाउन के कारण ऑनलाइन मीटिंग भी की गईं हैं.
इस  परेशानियों से बचने के लिए विश्विद्यालय ने अहम फैसला लिया है, अब Researchers को ऑनलाइन पीएचडी कोर्स करने का अवसर मिल रहा हैं.

एपीजे अब्दुक कलाम तकनीकी विश्विद्यालय से PHD कर रहे लोगों का समय खराब न हो और वे किसी संक्रमण का भी शिकार न हो इसलिए शोधकर्ताओं के लिए विश्विद्यालय ने ऑनलाइन स्टडी की सुविधा की है.

इतना ही नहीं विश्विद्यालय ने यह भी कहा है, कि इस कोर्स के खत्म होने पर ऑनलाइन मौखिक और लिखित परीक्षा के साथ  ऑनलाइन वाइवा  का भी प्रवधान किया गया है.
कोर्स की गंभीरता और  ऑनलाइन स्टडी मटीरियल को देखते हुए इनको दो चरणों में विभाजित किया है.

यहां तक कि विश्वविद्यालय का कहना है, कि मैथेडोलॉजी में ऑनलाइन कोर्स से पास होने वाले लोगों को सर्टिफिकेट दिया जाएगा. सूत्रों से पता चला है कि इस साल ऑनलाइन कोर्स के लिए 78 लोगों में फॉर्म भर है. यहां तक कि
पी एच डी को लेकर की जाने वाली RDC की बैठक भी ऑनलाइन की गई थी

Follow Us