मोबाइल वॉलेट एप पेटीएम (Paytm) ने अब सिबिल स्कोर चेक करने की सुविधा लॉन्च की है। अब घर बैठे आप Paytm पर मुफ्त में सिबिल स्कोर चेक कर सकेंगे। यूजर्स अब लोन से जुड़ी सारी एक्टिव इन्फॉर्मेशन इस एप के जरिए जान सकेंगे।

paytm launches new feature


● ऐसे चेक कर सकते हैं अपना क्रेडिट या सिबिल स्कोर

■ सिबिल स्कोर चेक करने के लिए Paytm एप पर लॉगिन करें फिर होम स्क्रीन पर आकर More icon पर टैप करें

 

■ टैप करने के बाद आपको पैन कार्ड नंबर और डेट ऑफ बर्थ को भर कर सबमिट करना होगा।

 

■ अगर आप Paytm पर नए यूजर हैं तो आपके पास OTP भी भेजा जा सकता है।

 

■ इन्फॉर्मेशन के भरने के बाद आपको सिबिल स्कोर स्क्रीन पर दिख जाएगा।

 

■ सिबिल स्कोर के अलावा आप क्रेडिट स्कोर और अन्य जानकारियां भी ले सकते हैं।

 

india rise news, paytm launches new feature cibil score

 

 

● क्या होता है सिबिल स्कोर ? 

सिबिल स्कोर से आपके पिछले कर्ज की जानकारी आपको मिलती है। नियमित कर्ज चुकाने से आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा रहता है। यह तीन अंकों का होता है। सिबिल स्कोर करीब 300 से 900 के बीच होता है। अगर स्कोर 750 से ज्यादा होता है तो कर्ज मिलने में आसानी हो जाती है। जितना अच्छा सिबिल स्कोर होता है उतना ही अच्छा कर्ज मिलता है। सिबिल स्कोर 24 महीने के क्रडिट हिस्ट्री के हिसाब से बनता है।

 

india rise news, paytm launches new feature cibil score

● CIBIL स्कोर कैसे कैलकुलेट किया जाता है ? 

यहां चार महत्वपूर्ण बातें हैं जो जानना बेहद जरूरी हैं, जिससे सिबिल स्कोर पर खास असर पड़ता है।

 

■ पेमेंट हिस्ट्री : देर से EMI भरना या  डिफॉल्ट करने पर असर आपके सिबिल स्कोर पर पड़ता है

 

■ क्रेडिट मिक्स : मिलेजुले सिक्योर्ड और अनसिक्योर्ड लोन होने से आपके क्रेडिट स्कोर पर सकारात्मक असर देखने को मिलता है।

■ पूछताछ करना : कर्ज के बारे में ज्यादा पूछताछ एक नकारात्मक असर डालती है। यह संकेत देता है कि भविष्य में आपका कर्ज का बोझ बढ़ जाएगा।

 

■ हाई क्रेडिट यूटिलाइजेशन : हाई क्रेडिट यूटिलाइजेशन लिमिट टाइम के साथ कर्ज बढ़ने के संकेत देती है। इससे स्कोर पर अच्छा असर नहीं पड़ता।

●  CIBIL स्कोर को सही रखने का फायदा ? 

CIBIL स्कोर से आपको पिछले स्कोर की जानकारी मिलती है। भविष्य में अगर आपको कर्ज लेना है तो सिबिल स्कोर का अच्छा होना भी जरूरी है।

 

● कैसे सुधार सकते हैं अपना CIBIL स्कोर

■ क्रेडिट का ज्यादा इस्तेमाल न करें, खर्च पर अंकुश लगाएं।

■ ज्वाइंट अकाउंट है तो अकाउंट होल्डर पर भी नजर रखें

■ समय-समय पर क्रेडिट हिस्ट्री की समीक्षा करें, सिबिल स्कोर पर नजर बना कर रखें, रिपोर्ट के नियमित रूप से जांचने पर आप बैंक की ओर से हुई कोई भी चूक को सुधरवा सकते हैं।

■ भविष्य में चाहते हैं कि कर्ज मिलने में कोई दिक्कत न हो तो CIBIL स्कोर को सुधारने में लग जाएं।

Follow Us