18 days parliament mansoon session 2020 parliament


कोरोना महामारी के बीच 18 दिनों का संसद का मानसून सत्र (Mansoon session) आज ( सोमवार) से शुरू हो चुका है। इस बार इस सत्र में कई चीजें पहली बार हो रही हैं। संसद परिसर में उन लोगों की एंट्री होगी जिनके पास Covid-19 संक्रमित नहीं होने वाली रिपोर्ट होगी। सत्र के दौरान मास्क पहनना जरूरी होगा। सत्र के प्रारंभ से पहले 4000 सांसदों और संसद कर्मचारियों की कोरोना जांच करवाई गई है। इस बार संसदीय कामकाजी के लिए डिजिटल तरीके को प्राथमिकता दी गई है।

 

अपडेट्स

 ● 17वीं लोकसभा का चौथा सत्र आज सुबह 9 बजे से शुरू किया गया। सबसे पहले पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को श्रद्धांजलि दी गई। उसके बाद लोकसभा की कार्यवाही 1 घंटे के लिए स्थगित की गई थी।

 

● डीएमके और सीपीआई ने नीट एग्जाम की वजह से 12 छात्रों की आत्माहत्या के मामले में लोकसभा में स्थगन प्रस्ताव दिया

 

● मानसून सत्र के दौरान ओम बिरला की तरफ से चिट्ठी और डीआरडीओ की किट सभी सांसदों को भेजी गई। (अगर किसी सदस्य को स्वास्थ्य संबंधित शिकायत होती है तो उसके उचित उपचार की व्यवस्था की गई है। स्पीकर ने बताया कि संसद परिसर में एक नियंत्रण कक्ष लगातार सेवारत है, जो सांसदों की कोविड-19 जरूरतों का निवारण करेगा।

 

● पहली बार सदन की बैठक में दोनों सदनों के चैंबर और गैलरी का इस्तेमाल किया गया।

 

● सत्र के पहले दिन राज्यसभा में उपसभापति पद के लिए चुनाव होगा। विपक्ष की तरह से मनोज झा एसडीए से जदयू नेता हरिवंश के बीच कांटे की टक्कर है।

 

संक्रमण से बचने के लिए इंतजाम 

संक्रमण से बचने के लिए कई इंतजाम किए गए हैं। 6 बार एसी बदले जाएंगे। कोरोना से बचाव के लिए डीआरडीओ की किट दी गई है। 40 डिस्पोजल मास्क, एन-95 मास्क, सैनिटाइजर की 20 बोतलें, 40 ग्लब्स और दरवाजे बंद करने के लिए टच फ्री हुक्स होंगे।

 

नहीं होगा प्रश्नकाल 

ऐसा पहली बार हो रहा है कि मानसून सत्र में प्रश्नकाल नहीं हो रहा है। विपक्ष ने इसपर सवाल खड़े किए हैं। कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा की प्रश्नकाल सदन की कार्यवाही का अहम हिस्सा है। यह गोल्डन आवर्स है, लेकिन आप कह रहे हैं कि विशेष परिस्थितियों के चलते इसे नहीं करा रहे हैं। दरअसल आप लोकतंत्र का गला घोंटने की कोशिश कर रहे हैं।

अपडेट…….

Follow Us