मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालाजी टंडन का मंगलवार सुबह 5:30  बजे निधन हो गया। टंडन को 11 जून को सांस लेने में तकलीफ हो रही थी साथ ही हल्का बुखार भी था। उनहें लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। लालजी टंडन का निधन 85 वर्ष की उम्र में सुबह 5:30 पर हुआ था। इस बात की जानकारी उनके बेटे आशुतोष टंडन ने दी।

अतिंम संस्कार की तैयारी

लालजी टंडन के परिवार ने बताया कि उनकी अतिंम यात्रा मंगलवार चार बजे गुलाल घाट, चौक के लिए प्रस्थान की जाएगी। इसके साथ ही उनके परिवार का कहना है कि कोरोना वायरस के चलते आपसे प्रर्थना है कि अपने-अपने घर से श्रद्धा सुमन अर्पित करें।

प्रधानमंत्री मोदी ने जताया शोक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा- उन्होंने उत्तर प्रदेश में भाजपा को मजबूत करने में अहम भूमिका निभाई, वे कुशल प्रशासक थे कानूनी मामलों की उन्हें गहरी जानकारी थी। अटल जी के साथ वे लंबे समय तक रहे। दुख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिवार के साथ हैं।

राष्ट्रपति ने रामनाथ कोविंद ने ट्वीट कर जताया शोक

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि टंडन का राजनीति में जितना ऊंचा कद था, उतने ही वे लखनऊ में सांस्कृतिक रूप से भी सक्रिय थे।

उत्तर प्रदेश मुखयमंत्री ने किया ट्वीट

म.प्र के मा. राज्यपाल श्री लालजी टंडन जी के निधन की खबर सुनकर शोक हुआ। उनके निधन से देश ने एक लोकप्रिय जननेता, योग्य प्रशासक एंव प्रखर समाज सेवी को खोया है। वे लखनऊ के प्राण थे। ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शान्ति हेतु प्रार्थना करता हूं। मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिजनों के साथ हैं।

https://twitter.com/myogiadityanath/status/1285406890059419649?s=19
Follow Us