पिछले  3-4 दिनों से ट्विटर पर एक ट्रेंड काफी तेजी से  देशभर में छाया हुआ है। हैशटैग #modi_rojgar_do के जरिए कई युवा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से रोजगार की मांग कर रहे हैं। इस हैशटैग पर बीते 2-3 दिनों में 20-25 लाख ट्वीट किए जा चुके हैं। हालंकि आपको बता दें इसके अलावा ट्विटर पर हैशटैग #cgl19marks भी ट्रेंड करने लगा, इस पर अभी तक 32 लाख से ज्यादा ट्वीट किए जा चुके हैं। इतना ही नहीं छात्रों ने असली तैयारी 25 फरवरी के लिए की है। 25 फरवरी को सुबह 11 बजे से इन हैशटैग्स पर एक साथ लाखों ट्वीट्स करने की तैयारी है और अलग-अलग सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म्स पर इसे ट्रेंड कराने की तैयारी है।

क्या है पूरा विवाद 
दरअसल पूरा विवाद स्टाफ सिलेक्शन कमिशन की कंबाइंड ग्रैजुएट लेवल (CGL) परीक्षा को लेकर है। यूपीएससी के जरिए जहां केंद्रीय सेवाओं में ग्रुप ए अधिकारियों की भर्ती होती है, तो एसएससी (सीजीएल) के जरिए केंद्रीय सेवाओं के ग्रुप बी और ग्रुप सी पदों के लिए बड़े पैमाने पर भर्तियां होती हैं। एसएससी सीधे तौर पर केंद्र सरकार के कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग के अंतर्गत आता है।

पिछले साल नवंबर में CGL 2019 की परीक्षा में है विवाद की जड़

नवंबर 2020 में तीन पालियों में CGL  2019 के टियर 2 और उसके 3-4 दिन बाद टियर 3 की परीक्षा कराई गई। यहां बता दें कि सीजीएल 2018 तक यह व्यवस्था थी कि टियर 2 के रिजल्ट आने के बाद जो छात्र क्वालिफाई होते थे उन्हें टियर 3 में बैठने का मौका मिलता था। मगर इस बार दोनों की परीक्षा साथ में 3-4 दिन के गैप पर कराई गई और यह नियम रखा गया कि जो कैंडिडेट टियर 2 क्वालिफाई करेंगे उन्हीं की टियर 3 की कॉपी चेक की जाएंगी।

Follow Us