खेलो इंडिया यूथ गेम्स की मेजबानी किसे मिलेगी इस सवाल का जवाब अब मिल गया है। पंचकूला का नाम इस बड़ी
गेम्स के लिए फाइनल कर दिया गया है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और केंद्रीय खेल मंत्री किरण रिजिजू
ने शनिवार को घोषणा की कि 2021 में आयोजित होने वाले ‘खेलो इंडिया यूथ गेम्स’ के चौथे सत्र की मेजबानी हरियाणा
करेगा।

पंचकूला में खिलाड़ियों के लिए सभी सुविधाएं उपलब्ध
पंचकूला में खेलो इंडिया यूथ गेम्स जैसे बहु-खेल कार्यक्रम की मेजबानी करने के लिए सबसे अच्छा खेल आधारभूत
संरचना है। यहां बड़ी संख्या में प्रतिभागियों के लिए आवास की सुविधा हैं। पंचकूला इसकी मेजबानी के लिए सक्षम है।
मेजबानी से हमें प्रदेश में स्पोर्ट्स और एथलीट्स को ग्रोथ देने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि पिछले ओलंपिक गेम्स में
भी एक मेडल हरियाणा ने ही दिलाया था।

कोरोना वायरस के कारण खेलो इंडिया का आयोजन स्थगित
रिजिजू ने कहा कि गेम्स को कोरोना वायरस के कारण इस साल नहीं खेला जाएगा।उन्होंने कहा कि खेल के चौथे सत्र का
आयोजन अगले साल होने वाले तोक्यो ओलिंपिक के बाद पंचकूला में होगा। वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए हुई इस घोषणा में
रिजिजू ने कहा, ‘आमतौर पर ‘खेलो इंडिया यूथ गेम्स’ हर साल जनवरी में होते हैं। हालांकि, इस बार कोरोना महामारी
के कारण, हमने इसे स्थगित किया है।’ उन्होंने कहा कि खेलो इंडिया से हमें वर्ल्ड चैंपियनशिप और ओलंपिक लेवल के
एथलीट्स मिलेंगे और उन पर नजर रखी जाएगी। इन गेम्स से इंफ्रास्ट्रक्चर में भी इजाफा होगा।

हरियाणा सरकार ने हमेशा खेल को दिया बढ़ावा
खट्टर ने कहा, ‘एक राज्य के रूप में हरियाणा ने हमेशा खेलों को बड़े पैमाने पर बढ़ावा दिया हैं और अपने ऐथलीटों का
समर्थन किया हैं।
हमारे एथलीट्स मेडल के लिए नहीं प्रदेश व देश के सम्मान के लिए खेलते हैं। हरियाणा को खेलो इंडिया यूथ गेम्स की
मेजबानी खेलों के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को दिखाती हैं।

ओवरऑल चैंपियन रहा था हरियाणा
हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने खेल मंत्री रिजिजू का मेजबानी के लिए शुक्रिया किया। उन्होंने कहा कि
हरियाणा ने इन खेलों के पिछले तीनों सत्र में हमेशा मेडल विनिंग एथलीट्स दिए हैं। हरियाणा 2019 और 2020 में
पदक तालिका में दूसरे स्थान पर रहा था।

हरियाणा ने देश को दिए कई शानदार ऐथलीट
हरियाणा ने देश को कई शानदार ऐथलीट दिए है जिनमें पहलवान योगेश्वर दत्त, बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक, और
विनेश फोगट के आलवा पैरा-ऐथलीट दीपा मलिक, भालाफेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा, मुक्केबाज अमित पंघाल और

निशानेबाज संजीव राजपूत, मनु भाकर, अनीश भानवाला जैसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीतने वाले खिलाड़ी शामिल
हैं। रिजिजू ने कहा, ‘हरियाणा में पहले से ही बहुत मजबूत खेल संस्कृति है और इसने देश को कुछ सर्वश्रेष्ठ ऐथलीट दिए हैं।
मुझे यकीन है कि राज्य में खेलों की मेजबानी अधिक ऐथलीटों को प्रतिस्पर्धी खेल अपनाने के लिए प्रेरित करेगा।

Follow Us