junk food banded in school canteen the india rise news


 

खाद्य नियामक भारतीय खाद्य संरक्षा और मानक प्राधिकरण FSSAI  ने स्कूल परिसरों के 50 मीटर के दायरे और  स्कूल कैंटीन के अंदर जंक फूड की बिक्री पर रोक लगा दी है।

 

FSSAI ने बच्चों के सुरक्षित भोजन और पोषण खाद्य को प्रोत्साहित करने वाला कदम उठाया है। सरकार के मुताबिक स्कूल कैंटीन से लेकर हॉस्टलों तक जंक फूड का आइटम नहीं रखा जाएगा। कैंटीन में 70 से 80 प्रतिशत तक ऐसा खाना दिया जाएगा। जिसमें गेंहू का आटा, चावल रागी, बाजरा और अनाज के साथ दालें भी शामिल हों।

 

इसके साथ जी अधिसूचना के मुताबिक वहीं इस तरह के खाद्य सामग्री का निर्माण करने वाली कंपनियों को भी स्कूल के 50 मीटर के दायरे और कैंटीन इत्यादि में विज्ञापन करने की मनाही होगी। इसमें ब्रांड का नाम, लोगो, पोस्टर, बच्चों की किताब-कॉपी के कवर इत्यादि पर होने वाला विज्ञापन भी शामिल है। स्कूल प्रशासन को भी इस तरह के खाद्य पदार्थों की सामग्री नहीं बेचने के बोर्ड अंग्रेजी और एक भारतीय भाषा में परिसर के भीतर और स्कूल के प्रवेश द्वार एवं अन्य द्वार के बाहर भी लगाने होंगे।

 

इसके साथ ही स्कूल की कैंटीन को आदेश दिए गए हैं की वो दलिया पोहा, दाल, उपमा जैसी तमाम हेल्थी फूड समय समय पर बनाए सरकार ने देश के स्कूलों में सुरक्षित खाद्य पदार्थ मुहैया करवाने के मामले में मसौदा जारी किया था। जिसके बाद विशेषज्ञों से मिले सुझाव के बाद नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया। इसमें यह भी कहा गया की स्कूल ऐसा कोई ऐड या बोर्ड न लगाए जिसमें जंक फूड जैसी तस्वीरें हों यह जंक फूड को बढ़ावा देगा। वहीं स्कूल के कंप्यूटर स्क्रीन पर भी कोई भी जंक फूड के वॉलपेपर नहीं लगाए जाएंगे।

Follow Us