बिहार में कोरोना वायरस से मरने ( death ) वालों की संख्या बढ़ती दिख रही है ऐसे में पटना के गुलाबी घाट पर शवदाह ग्रह की स्थिति खराब होती जा रही है ठंडी होने से पहले ही तीन चिता अंतिम संस्कार के लिए कतार में खड़ी रहती है। वही ऐसे हालात होने के बावजूद लोग मुनाफे के चक्कर में इंसानियत को भूलते दिख रहे हैं।

 death

यह भी पढ़े : छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश के बीच सात मई तक नहीं चलेंगी बसें 

दरअसल कोरोना संक्रमण के भय से मृतक के स्वजन शरीर को छूने से डर रहे हैं ऐसे में अंतिम संस्कार के लिए गुलाबी घाट पर एंबुलेंस से आए शव को शवदाह गृह ले जाने के लिए दलाली का खेल चल रहा है। मिली जानकारी की माने तो तहकीकात में खुलासा हुआ है कि गुलाबी घाट पर एंबुलेंस से आए शव को अंतिम संस्कार के लिए श्रद्धा तथा लकड़ी से जलाने वाले घाट तक पहुंचाने के लिए ₹10000 की रकम मांगी जा रही है।

यह भी पढ़े : छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश के बीच सात मई तक नहीं चलेंगी बसें 

समूह के सदस्य शव का अंतिम संस्कार कराने के लिए महज 50 से 70 कदम की दूरी तक ले जाने के लिए 5 से ₹10000 तक की मांग कर रहे हैं ऐसे में करुणा शंकर में सब होने से स्वजन भी बड़ी मांग को सुनकर ठगा महसूस कर रहे हैं वहीं दूसरी तरफ दलालों की दबंगई के आगे अंतिम संस्कार करने वालों को मजबूरन बड़ी रकम देकर अंतिम संस्कार करना पड़ रहा है।

Follow Us