बिहार में कोरोना वायरस संक्रमण के नए स्ट्रेन को लेकर एक बहुत खतरनाक खुलासा ( Dangerous disclosure ) हुआ है जहां इस बात की जानकारी हुई है कि पटना के अखिल भारतीय आयुर्वेदिक संस्थान की आईसीयू में भर्ती होने वाले कोरोना संक्रमण के मात्र 20% मरीज ही स्वस्थ होकर वापस लौट पा रहे हैं यह आंकड़ा 2021 में मिले कोरोना वायरस संक्रमण के नए इस ट्रेन को लेकर हुए हैं।इसको लेकर एक अध्ययन किया गया है जिसमें यह बात सामने आई है।

यह भी पढ़े : उत्‍तराखंड में फिलहाल नहीं लगेगा लाकडाउन, विवाह समारोह में बस 50 व्यक्तियों को अनुमति 

Dangerous disclosure

दरअसल एक अहम जानकारी सामने आई है कि कोरोना के नए स्ट्रेन से मल्टी ऑर्गन डिसऑर्डर हो रहा है पटना एम्स पलमोनरी मेडिसिन विभागाध्यक्ष डॉ दीपक कुमार राय ने इस पूरे मामले पर बताया कि जो मरीज आईसीयू में भर्ती हो रहे हैं उन्हे किडनी और लीवर की परेशानियों से जूझना पड़ रहा है।

यह भी पढ़े : उत्‍तराखंड में फिलहाल नहीं लगेगा लाकडाउन, विवाह समारोह में बस 50 व्यक्तियों को अनुमति 

इसी के कारण मात्र 20% लोग ही आईसीयू से ठीक हो कर वापस आ पा रहे हैं। 70 फीसद मरीज में किडनी, 100% मरीजों में लंग्स और साथ ही साथ मरीजों में लीवर की समस्या हो रही है। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण के नए स्ट्रेन से मल्टी ऑर्गन डिसऑर्डर हो रहा है।

Follow Us