दिल्ली में संक्रमण के बढ़ते मामलों ने आज सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं आपकी जानकारी के लिए बता दें कि दिल्ली में लगभग 25000 मामले दर्ज किए गए हैं जो प्रदेश के हाल बखूबी दर्शाते हैं मिली जानकारी की माने तो दिल्ली के अस्पतालों के हाल काफी नाजुक है, अस्पतालों में बेड और ऑक्सीजन की कमी आ रही है, जिसके लिए दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने केंद्र सरकार से मदद भी मांगी है।

यह भी पढ़े : दिल्ली : दवाइयों की कालाबाजारी पर छापे मारने के आदेश 

कुछ घटना है ऐसी निकल के सामने आई हैं जहां दिल्ली में लोगों को अस्पतालों में इलाज नहीं मिल पा रहा है जिसके कारण वह एंबुलेंस में ही दम तोड़ दे रहे है हालांकि सरकार अपना पूरा प्रयास कर रही है कि मरीजों को इलाज जल्द से जल्द दिया जा सके लेकिन शासन प्रशासन की तमाम कोशिशों के बावजूद अस्पतालों में बैठ अपनी क्षमता से अधिक भरे हुए हैं।

एंबुलेंस की किसी तरह व्यवस्था कर अगर मरीज अस्पताल पहुंच भी रहे हैं तो बाहर लंबी लाइन लगी हुई है , जिसके कारण मरीजों को भर्ती होने के लिए लंबा इंतजार करना पड़ रहा है सूत्रों के अनुसार हालात यह है कि शनिवार देर रात लोकनायक अस्पताल के इमरजेंसी विभाग के बाहर 2 मरीजों ने एंबुलेंस में ही अपना दम तोड़ दिया परिजनों का आरोप है कि वह आधा घंटे से एंबुलेंस में भर्ती होने का इंतजार कर रहे थे बेड नहीं होने की वजह से उनके मरीज को दाखिल नहीं किया गया इस वजह से मरीज की मौत हो गई।

यह भी पढ़े : दिल्ली के हालातों पर बोले सीएम केजरीवाल ‘100 से भी कम है ऑक्सीजन बेड’ 

वहीं दूसरी तरफ मौके का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा और आनन-फानन में स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन अस्पताल का निरीक्षण करने पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री ने इमरजेंसी विभाग के बाहर तीमारदारों से बातचीत की साथ ही अस्पताल में उनके मरीज को भर्ती कराने का आदेश दिया।

Follow Us