देश की पहली कोरोना वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल शुरू हो गया है। शुरुआत में ट्रायल के लिए 375 लोगों को
शामिल किया गया है। देश के 14 बड़े अस्पतालों में वैक्सीन का ट्रायल किया जा रहा है। इस ट्रायल में आधे
लोगों का इलाज सामान्य रूप से किया जाएगा और आधे लोगों को वैक्सीन दी जाएगी। इसकी तुलना करने
पर यह पता चलेगा की वैक्सीन कितनी असरदार है। देश में ह्यूमन ट्रायल का प्रोसेस 15 जुलाई से शुरू कर
दिया गया है।

ट्रायल में कितने दिन लग सकते हैं
वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल में करीब 1 महीना लगेगा। साथ ही किए गए ह्यूमन ट्रायल के आंकड़ों को ड्रग
कंट्रोल ऑफ इंडिया भेजा जाएगा। जिसके बाद अगले चरण की मंजूरी दी जाएगी। वहीं इस पूरे ट्रायल में
कम से कम 90 दिन लग सकते हैं।

डॉ हर्षवर्धन ने ट्वीट कर दी जानकारी
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने शनिवार को ट्वीट कर बताया कि स्वदेश कोरोना वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल
शुरू हो गया है। पिछले महीनों में कोरोना वैक्सीन के विकास के लिए जारी प्रयास के सकारात्मक संकेत
मिलने लगे हैं। हम जल्द ही इस महामारी पर पूरी तरह जीत प्राप्त कर लेंगे।

किन अस्पतालों में हो रहा है पहले चरण का ट्रायल
वैसे तो 14 अस्पतालों को ह्यूमन ट्रायल के लिए निश्चित किया गया था लेकिन अभी 12 अस्पतालों में पहले
चरण का ह्यूमन ट्रायल शुरू किया गया है। जिसमें एम्स दिल्ली, एम्स पटना, किंग जॉर्ज हॉस्पिटल-
विशाखापटनम, पीजीआई रोहतक, जीवन रेखा अस्पताल- बेलगम, गिलुरकर मल्टीस्पेशएलिटी हॉस्पिटल
नागपुर, राना हॉस्पिटल- गोरखपुर, एसआरएम हॉस्पिटल- चेन्नई, निजाम इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस –
हैदराबाद, कलिंगा हॉस्पिटल- भुवनेश्वर, प्रखर हॉस्पिटल- कानपुर इसके साथ ही गोवा के एक अस्पताल में
ट्रायल किया का रहा है।

Follow Us