देशभर में कोरोना कहर लगातार बढ़ता जा  रहा है। वहीं छत्तीसगढ़ में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच एम्स रायपुर में नियमित ओपीडी और ओटी सेवाएं 17 अप्रैल से अगले आदेश तक निलंबित रहेगी। ट्रामा और इमरजेंसी सेवा, प्रसूति और इमरजेंसी ओटी सेवा जारी रहेगी। मरीजों के लिए टेलीमेडिसीन सेवा उपलब्ध रहेगी। कोविड-19 वार्ड में 30 नए बेड लगाए गए हैं। 

यह भी पढ़ें : कोरोना संकट: NEET PG-2021 स्थगित, परीक्षा के लिए करना होगा इंतजार 

सिंहदेव ने कहा कि वर्तमान में छत्तीसगढ़ में छह हजार ऑक्सीजन की सुविधा वाले बिस्तर हैं। इसे 13 हजार करने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन सुविधा वाले कितने बिस्तर की जरूरत है यह परिस्थिति के हिसाब से ही तय होगा। अभी माना जा रहा है कि 70 से 80 फीसदी लोग होम आइसोलेशन में जाते हैं। इस हिसाब से अस्पताल जाने वाले मरीजों के लिए ऑक्सीजन सुविधा वाले बिस्तरों की जरूरत होगी।  

छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने बताया कि राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण हालात चिंताजनक है। लोगों के इलाज के लिए अधिक से अधिक ऑक्सीजन सुविधा वाले बिस्तर की जरूरत है। राज्य सरकार जल्द से जल्द इसकी संख्या बढ़ाने का प्रयास कर रही है। राज्य में मरीजों के लिए ऑक्सीजन की कमी होने के सवाल पर सिंहदेव ने कहा कि ऑक्सीजन की कमी नहीं बल्कि सिलेंडर की कमी हो रही है। राज्य सरकार सिलेंडर बनाने वाली कंपनी से बात कर रही है। इस समस्या को दूर करने का प्रयास किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें : पटरी पर आने लगी है अर्थव्यवस्था, चौथी तिमाही में मिल सकती है पॉजिटिव ग्रोथ : RBI 

उन्होंने बताया कि राज्य में आईसीयू बिस्तरों की कमी है। राज्य में अभी 1200 आईसीयू बिस्तर हैं। इसमें शासकीय और निजी अस्पताल शामिल हैं। राज्य में और एक हजार आईसीयू बिस्तरों की व्यवस्था की जा रही है। राज्य सरकार के पास प्रस्ताव भेजा गया है।

Follow Us