रामनगरी अयोध्या में पांच अगस्त यानी बुधवार को श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण के लिए भूमि पूजन है। पीएम मोदी कल राम मंदिर की नींव रखेंगे। इसको लेकर एक हफ्ते से प्रदेश में जारी उल्लास का माहौल अब बड़े उत्सव की रूप ले चुका है। दो दिन के उत्सव का यह नजारा दीपावली जैसा भव्य होगा। फिलहाल अयोध्या की सीमाएं सील कर दी गई हैं साथ ही सुरक्षा की दृष्टि से यातायात में भी बदलाव किया गया है। कल तक बाहरी व्यक्तियों के प्रवेश पर यहां रोक रहेगी। स्थानीय निवासियों के लिए भी यहां कुछ नियम बनाए गए हैं।

ayodhya ram mandir bhumi pujan red zone


 

जानिए क्यों है कल का मुहूर्त खास

अयोध्या में कल अभिजीत मुहूर्त में भूमि पूजन का कार्यक्रम होगा। इसी मुहूर्त में भगवान श्रीराम का जन्म भी हुआ था।यहां भूमि पूजन में 9 पत्थर रखे जाएंगे। इनका पूजन पीएम मोदी करेंगे। ये सभी नौ शिलाएं 1989-90 के दौरान हुए राम मंदिर आंदोलन से जुड़ी हैं। 9 शिलाओं में से एक शिला को गर्भगृह में रखा जाएगा, बाकी 8 अन्य स्थानों पर। 9 शिलाओं का इस्तेमाल नक्शा पास होने के बाद मंदिर निर्माण के वक्त किया जाएगा।

सुबह 10:30 के बाद से नहीं मिलेगा प्रवेश

अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन में 175 अतिथियों को निमंत्रण दिया गया है।सभी निमंत्रण प्राप्त लोगों को सुबह 10:30 बजे तक आना अनिवार्य है। इसके बाद प्रवेश नहीं मिलेगा। सभी अतिथियों को प्रधानमंत्री के आगमन के दो घंटे पहले तक पहुंचना होगा।उन्होंने कहा कि जिन लोगों को आमंत्रित किया गया है उनको कार्ड मिल जाएगा। इस कार्ड के आधार पर कोई दूसरा व्यक्ति उनकी जगह नहीं आ सकता है। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि कोई वाहन पास जारी नहीं किया गया है। वाहनों को कार्यक्रम स्थल से दूर ही रखा जाएगा।

अयोध्यावासियों को साथ रखनी होगी आईडी

राम मंदिर भूमि पूजन से पहले अयोध्या के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है. उत्तर प्रदेश पुलिस बुधवार के कार्यक्रम के लिए पूरी तरह से तैयार है. यूपी पुलिस के एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार के मुताबिक, अयोध्या जिले से लेकर राज्य और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अलर्ट जारी किया गया है। राम जन्मभूमि के आसपास का इलाका रेड जोन घोषित कर दिया गया है।इस दौरान अयोध्या वालों को घर से बाहर निकलते वक्त अपनी आईडी साथ रखनी होगी। कहीं भी इसकी चेकिंग हो सकती है।

मंच पर होंगे ये 5 लोग

भूमिपूजन कार्यक्रम के दौरान मंच पर सिर्फ पांच लोग ही होंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत और श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास मंच पर रहेंगे। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया की वरिष्ठ बीजेपी नेता लाल कृष्ण आडवाणी आयु ज्यादा होने की वजह से नहीं आ पाएंगे जबकि बीजेपी नेता उमा भारती ने बताया कि वो कोरोना की वजह से सरयू किनारे रहकर ही कार्यक्रम की गवाह बनेंगी।

कोरोना बचाव के विशेष इंतजाम

रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय के मुताबिक, भूमिपूजन कार्यक्रम के दौरान कल कोविड-19 के प्रोटोकॉल के साथ ही प्रधानमंत्री की सुरक्षा को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था काफी सख्त रहेगी। भूमि पूजन पर कोरोना संक्रमण से बचाने  के लिए लखनऊ से जांच की 6 विशेष टीमें अयोध्या पहुंची हुई हैं। ये टीमें पूरी अयोध्या को सैनिटाइज करने के काम में जुटी हैं।

गौरतलब है कि भूमि पूजन की तैयारियों के बीच राम मंदिर के सहायक पुजारी समेत कुछ सुरक्षाकर्मी भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे।जिसके बाद उन्हें तुरंत क्वारंटीन किया गया।

Follow Us