भारत की केंद्र सरकार ने भारतीयों को बैंक से जोड़ने के लिए कई योजनाएं तैयार की है। प्रधानमंत्री जनधन योजना के बाद मुझे बहुत लोगों का बैंक में अकाउंट खुल गया तो हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने एक और योजना की शुरुआत की। इस योजना का नाम है अटल पेंशन योजना क्योंकि लोगों के लिए पेंशन देने का काम करेंगी।
अटल पेंशन योजना असंगठित क्षेत्र यानी की प्राइवेट जगहों या फिर वो जगहें जहां आपको नियमित आय न मिलती हो में काम करने वाले लोगों के लिए काफी फायदेमंद सुरक्षा स्कीम है। अटल पेंशन योजना में निवेश करने से रिटायरमेंट के बाद के खर्च करने के लिए आपको नियमित आय मिलती है जोकि आपके लिए बहुत फायदेमंद होगी।

क्या है योजना?


भारत की केंद्र सरकार ने लोगों के लिए अटल पेंशन योजना की शुरुआत मई 2015 में की थी। इस योजना के अनुसार अगर आप इस योजना में निवेश करते हैं तो आपको आपकी नौकरी से रिटायरमेंट मिलने के बाद भी बैंक की ओर से पेंशन प्रदान की जाएगी जिसे आप अपने खर्च के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। यह पेंशन आपके लिए नियमित रहेगी।
एपीवाय यानी कि अटल पेंशन योजना में निवेश करने के लिए अलग-अलग प्रावधान है। आप जितनी जल्दी इस योजना में निवेश करेंगे आपको अपने रिटायरमेंट के बाद उतना ही फायदा मिलेगा। अगर आप अपनी 18 वर्ष की उम्र से ही अटल पेंशन योजना में निवेश करने लगते हैं तो इसके बाद आपको ₹210 का निवेश करना होगा। यह निवेश मासिक होगा यानी कि आपको 1 महीने में ₹210 का निवेश करना होगा। इस निवेश के बाद आपको अपने रिटायरमेंट के बाद मासिक पेंशन मिला करेगी जो कि ₹5000 हुआ करेगी। आपको इस योजना का फायदा 60 साल की उम्र के बाद रिटायर होने के बाद मिला करेगा।
योजना की उम्र सीमा और आवेदन का तरीका
अटल पेंशन योजना में निवेश करने के लिए आपकी उम्र की सीमा भी तय रहती है। यदि आपको इस योजना में निवेश करना है तो फिर आप की उम्र 18 से 40 के बीच में होनी चाहिए।अटल पेंशन योजना के तहत आपको पेंशन पाने के लिए आपको कम से कम 20 साल तक निवेश करना होगा।
अपनी उम्र के हिसाब से निवेश करने के बाद को न्यूनतम ₹1000 और अधिकतम ₹5000 का मासिक पेंशन मिला करेगा।
अटल पेंशन योजना में निवेश से रिटायर होने के बाद आप हर माह पेंशन पा सकते हैं और अटल पेंशन योजना की सबसे बड़ी खासियत यह है कि अगर आपकी असामयिक मृत्यु हो जाती है तो आपके परिवार को इसका फायदा मिलने का प्रावधान है। यानी कि अगर आप की मृत्यु हो जाती है तो इसके बाद आपके परिवार के सदस्यों को आपकी अटल पेंशन योजना में किए गए निवेश की राशि मिला करेगी। अटल पेंशन योजना में निवेश करने वाले व्यक्ति की मृत्यु होने पर उसकी पत्नी को पूंजी मिला करेगी । यदि योजना के लाभार्थी की पत्नी की भी मृत्यु हो जाती है तो ऐसी स्थिति में उनके बच्चों को पेंशन मिलने का प्रावधान है।

रिटायर होने के बाद जीवनभर पेंशन पाने के लिए आपको पेंशन स्कीम में कुछ सालों तक ही निवेश करना होता है जिसकी वजह से यहस्सीम और अधिक फलकारी हो जाती है और साथ ही आपके निवेश के साथ सरकार भी अटल पेंशन योजना में अपनी ओर से भी कुछ दान दिया करती है।
अगर आप भी अटल पेंशन योजना में अपना निवेश करना चाहते हैं तो फिर इसके लिए आपको इसमें आवेदन करना होगा। आवेदन करने के लिए कुछ मुख्य स्टेप्स नीचे दिए गए हैं:

– बैंकों में जाकर एक एपीवाई अकाउंट खोला जा सकता है। इसकी शर्त यह है की यह बैंक नेशनलाइज्ड यानी की राष्ट्रीय बैंक होने चाहिए क्योंकि सिर्फ इन्ही बैंको में आवेदन करने की प्रक्रिया हो सकती है।
–इसके बाद आपको एक फॉर्म भरना होगा फिर उसका नाम अकाउंट ओपनिंग फॉर्म है। यह अकाउंट ओपनिंग फॉर्म, बैंक की वेबसाइटों पर ऑनलाइन भी मिल सकता है। आवेदन फॉर्म को वेबसाइट से डाउनलोड किया जा सकता है।
– अच्छी बात यह है की आवेदन फॉर्म, अंग्रेज़ी, तेलुगु, तमिल, उड़िया, मराठी, कन्नड़, गुजराती, और बंगला में उपलब्ध है। इसकी वजह से इसकी पहुंच ज्यादा लोगों तक हो जाती है।
– आपको इस आवेदन फॉर्म को भरकर बैंक में सबमिट करना होता है। यह एक आवश्यक प्रक्रिया है।
इस फॉर्म को ब्रांच मैनेजर को संबोधित करके भरना होता है। आप बैंक को कॉल करके या वहां जाकर अपने ब्रांच मैनेजर का नाम मालूम कर इसमें भर सकते हैं।याद रहे की आपको इसमें अपने बैंक का नाम और ब्रांच का नाम भी दर्ज करना होगा।
इसमें आपको अपना बैंक अकाउंट नंबर, बैंक का नाम और ब्रांच का नाम भी भरना होगा। यह आवश्यक है इसलिए इसे ठीक से भरना अनिवार्य है।
इस फॉर्म में आपको अपना व्यक्तिगत विवरण भी देना होगा।
– फॉर्म में आपको एक एक मान्य मोबाइल नंबर देना होता है।
–इसी फॉर्म के साथ आपको आधार कार्ड की फोटोकॉपी सबमिट करनी पड़ती है।
–आपके आवेदन के मंजूर होने पर, आपके दिए हुए नंबर पर ही एक कन्फर्मेशन मैसेज मिलता है। इसीलिए यह आवश्यक है कि आपने जो मोबाइल नंबर दिया है वह मान्य हो और चलता भी हो।

ध्यान रहे की जो लोग आयकर ( Income Tax) के दायरे में आते हैं, सरकारी इम्प्लाई हैं या फिर पहले से ही ईपीएफ, ईपीएस जैसी योजना का लाभ ले रहे हैं वे अटल पेंशन योजना का लाभ नहीं उठा सकते हैं।

2021 में योजना


2021 में भी अटल पेंशन योजना चल रही है और इसने कुछ ही बदलाव हुए हैं।अब वर्ष के किसी भी समय, इस योजना के तहत पेंशन को बढ़ाया या घटाया जा सकता है जो कि लोगों के लिए और भी ज्यादा लाभकारी हो गई है। इस बदलाव की वजह से लोग अपने हिसाब से एक पेंशन के लिए अपना निवेश कर सकते हैं।योजना में पंजीकृत करीब 2.28 करोड़ ग्राहकों को इस नई सुविधा से लाभ होगा जोकि 1 जुलाई से लागू की गई है। सभी बैंकों को वर्ष के किसी भी समय पेंशन राशि में कमी या वृद्धि की प्रक्रिया करने का निर्देश भी दिया है जिसका जल्द ही क्रियान्वन होगा। लेकिन आपको बता दें कि इस सुविधा का लाभ वित्तीय वर्ष में केवल एक बार उठाया जा सकता है।

Follow Us