प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा जमीन के साथ अब हवा में भी अभेद्य होने जा रही है। राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविद और पीएम नरेंद्र मोदी के विमानों की सुरक्षा को और पुख्‍ता करने के लिए खास तौर पर बनाए गए दो बोइंग विमान (B777-300ER) सितंबर तक एयर इंडिया को मिलने की उम्मीद है।ये विमान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के एयरफोर्स वन की तरह सुरक्षा से लैस होंगे। इनका इस्तेमाल केवल वीवीआईपी यात्रा के लिए होगा।

B777-300ER pm modi news plane delivers september onwards


राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ही करेंगे इस खास विमान का इस्तेमाल

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब लंबी दूरी की यात्रा के लिए अमेरिकी एयरफोर्स वन जैसे विमान से यात्रा करेंगे।VVIP परिवहन के लिए खरीदे गए दो नए बोइंग 777 विमान अब लगभग तैयार हो गए हैं। भारत के पहले एयरफोर्स वन विमान की एक तस्वीर भी सामने आ गई है। हल्के सफेद रंग के इस आधुनिक तकनीक वाले विमान पर देश के राजचिह्न के साथ हिंदी में भारत और अंग्रेजी में इंडिया लिखा हुआ है। सूत्रों के मुताबिक, इन विमानों को केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उप-राष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू द्वारा प्रयोग किया जाएगा।

 

 स्पेशल विमान की खासियत

बी777 विमानों में अत्याधुनिक मिसाइल रक्षा प्रणाली है। यानी ये विमान एंटी मिसाइल तकनीक से लैस हैं, इन पर किसी भी तरह की मिसाइल का असर नहीं होगा।

– इन्हें लार्ज एयरक्राफ्ट इंफ्रारेड काउंटर मेजर्स (LAIRCM) और सेल्फ प्रोटेक्शन सूट्स (SPS) कहा जाता है।

– यह विमान दुश्मनों की मिसाइल को खोज कर उसका मार्ग बदल सकता है।

– किसी भी तरह के हवाई हमले से सुरक्षा और उसका जवाब देने में सक्षण।

– दुश्मनों की राडार फ्रीक्वेंसी को जाम करने के साथ ही उनसे बचकर निकलने में सक्षम। 

– विमान में स्पेशल प्रोटेक्शन सूट मौजूद है 

– 396 लोग इस विमान में एक समय में बैठ सकते हैं 

– 212.7 फीट इस विमान के पंखों की लंबाई है।

– 60.8 फीट इस विमान की ऊंचाई है।

– 242.4 फीट इस विमान की लंबाई है।

– 13649 किमी की यात्रा ये विमान एक बार में लगातार कर सकता है।

– 100 लोगों का भोजन बना सकते हैं।

– 2000 लोगों के लिए भोजन स्टोर कर सकते हैं 

– विमान में हवा में ईंधन भरा जा सकता है।

– इस विमान के जरिए दुनिया के सभी राष्ट्र प्रमुखों से संपर्क किया जा सकता है।

– इन विमानों को उड़ाने के लिए एयर इंडिया (Air India) ने भी अपने 40 वरिष्ठ पायलट को चुना है। ये 40 पायलट ही इन दो बोइंग 777 विमान को उड़ाएंगे।

– इस विमान के रख रखाव की जिम्मेदारी एयर इंडिया की सहायक कंपनी एयर इंडिया इंजीनियरिंग लिमिटेड ( AIESL ) की होगी।

 

कोरोना की वजह से हुई देरी

साल 2018 में भारत ने बोईंग कंपनी से दो विमान खरीद कर उन्हें देश के VVIP जैसे राष्ट्रपति, उप-राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री की मवूमेंट के लिए उन्हें सुरक्षा जरूरतों के हिसाब से तैयार करने के लिए अमेरिका भेजा था। इस विमान की डिलीवरी में कोरोना वायरस के चलते देरी हुई है। दरअसल इससे पहले सरकारी अधिकारियों ने ये कहा था कि वर्ष 2020 के जुलाई तक इन विमानों की डिलीवरी हो जाएगी। लेकिन कोरोना की वजह से अब ये डिलीवरी सितंबर तक होने की उम्मीद है।

 

26 साल बाद बदले जाएंगे विमान

राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री द्वारा यात्रा के लिए अब तक प्रयोग किया जा रहा एयर इंडिया का बोइंग बी 747 विमान लगभग दो दशक से ज्यादा पुराने हैं। इन विमानों में एक में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पिछले महीने अपने तीन देशों के दौरे के दौरान उड़ान भरी थी। वह विमान एयर इंडिया में पिछले 26 साल से सेवा में है।

Follow Us