सियासत और चुनावी माहौल के बीच आया परिवार, बहनों ने कहा मां अनपढ़ थी इसलिए छोड़ दिया

Please log in or register to like posts.
News

The india rise bihar assembly election

बिहार में चुनाव की टिकटें साफ होते ही दल बदल का खेल शुरू हो गया है। चुनावी माहौल के समय सभी राजनीतिक पार्टियां अपना दम दिखाने में लगी हैं, लेकिन इस बीच चिराग पासवान की  लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) ने नीतीश कुमार से अपना नाता तोड़ लिया है। अब LJP, BJP के साथ मिल चुनाव लड़ रही है। 

बिहार के चुनाव में दो मुद्दों पर कई बार सवाल उठे हैं। पहला तो बॉलीवुड के सूत्रों से पता ही चल गया होगा और दूसरा चिराग पासवान का परिवार लगातार चर्चाओं में बना हुआ है। 

बात चिराग के परिवार की करें तो चिराग की तीन बहनें है एक सगी दो सौतेली जिनके नाम आशा और उषा हैं। बता दें कि बहन आशा अपने पिता के खिलाफ सार्वजनिक मंच से अपने ही पिता के खिलाफ मोर्चा खोल चुकी हैं। 

Bihar election 2020

बात अगर पिता और बेटे के बीच के रिश्ते की करें तो चिराग के पिता यानी राम विलास ने 2 शादियां की हैं। पहली शादी 1960 में राजकुमारी देवी के साथ हुई 1981 में पहली पत्नी से तलाक लेने के बाद 1983 में पासवान ने रीना शर्मा से शादी की। 

पहली पत्नी से उन्हें 2 बेटियां आशा और उषा हुईं। आशा और उनके पति के संबंध चिराग पासवान से मधुर नहीं हैं।

रिश्तों के बीच खटास की वजह यह भी हो सकती है की उनकी बेटी आशा का कहना है की उनके पिता ने मां यानी कि राम विलास पासवान की पहली पत्नी को इसलिए छोड़ा क्योंकि वे अनपढ़ थीं। 

The india rise bihar chunav

आशा एक बार लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के कार्यालय के पास ही धरना देने बैठ गई थीं। दरअसल वे इस धरने पर अपने पिता से मांफी मांगने के लिए बैठी थीं। वे इस वजह स3 नाराज थीं क्योंकि उनके पिता ने राबड़ी देवी को अंगूठा छाप कह दिया था। 

फिलहाल इस सितयात में अब आशा के पति साधू पासवान ने राजद का दामन थाम लिया है। उनका कहना है कि रामविलास पासवान अपने बच्चों में भेदभाव करते हैं।

The india rise bihar chunav

वहीं साधू ने यहां तक कहा कि राम विलास पासवान ने चिराग पासवान को अच्छी जगह पढ़ाया लिखाया। जबकि बेटियों को उन्होंने गांव में रखा। राम विलास पासवान में बेटियों को वो प्यार नहीं दिया जिनकी वो हकदार थीं। 

Reactions

0
0
0
0
0
0
Already reacted for this post.

Reactions

Nobody liked ?