जिला शिक्षा अधिकारी ने मंगलवार को पत्र जारी किया है, जिसमें साफ लिखा है कि, 15 जून से गवर्नमेंट और गवर्नमेंट एडेड स्कूलों में  25 प्रतिशत शिक्षकों को बुलाये जाने के निर्देश दिए हैं. DEO (District Educational Officer) ने पत्र में जिक्र किया है, कि शिक्षक स्कूलों में पेंडिंग कामों को पूरा कर सकें. साथ ही टीचर्स ऑनलाइन क्लास देंगे, न्यू ऐडमिशन और सीबीएसई बोर्ड की परीक्षा का आयोजन भी करेंगे इसके साथ अन्य रुके कामों को भी पूरा किया जाएगा.

साथ ही DEO ने यह भी निर्देश दिए हैं, कि 25 प्रतिशत शिक्षकों को भी दो ग्रुप में बंटा जाएगा. जिसमें से एक ग्रुप को एक हफ्ते और दूसरे ग्रुप को दूसरे हफ्ते में बुलाया जाएगा. इसके अलावा जिन टीचर्स को स्कूल नहीं बुलाया जाएगा वो अपने घर से ही काम करेंगे. बता दें कि अभी तक नियम के अनुसार केवल स्कूल के हेड को आने की अनुमति थी. नियम अनुसार हेड शैक्षणिक कार्य में सहयोग के लिए 2 या 3 शिक्षकों को बुला सकते थे. लेकिन अब नए नियम के अनुसार 25 प्रतिशत शिक्षक स्कूल आ सकेंगे साथ ही मास्क और सैनिटाइजर का लगाना जरूरी होगा. और सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान भी रखना होगा. अभी तक क्लास 6 से 12 तक की पढ़ाई ऑनलाइन करवाई जा रही थी.

बता दें, कि जो भी शिक्षक बुजुर्ग हैं या जो महिला शिक्षक गर्भवती हैं या जो शिक्षक कंटेनमेंट जोन में रह रहे हैं, उन्हें स्कूल नहीं बुलाया जाएगा. वे सभी शिक्षक घर से ही काम करेंगे. लेकिन अगर विभाग में जरूरी काम आया तो स्कूल जाना जरूरी होगा. साथ ही स्कूल प्रिंसिपल, हेड, SMC मेंबर एरिया काउंसलर स्टूडेंट्स के परिजनों के साथ ग्रुप में बंटा जाएगा.  इन सभी के साथ मिलकर स्कूल के खोले जाने पर विचार किया जाएगा. फीडबैक रिपोर्ट को 22 जून तक DEO Office में जमा किया जाएगा.

Follow Us