बरेली के आंवला का रहने वाला था शाहीन बाग में मरा मासूम जहान: शाहीन बाग में चल रहे धरना प्रदर्शन में जिस मासूम जहान की मौत हुई उसका परिवार बरेली के आंवला इलाके का रहने वाला है। बच्चे के मौत की खबर मिलने पर उसके घर पर मातम पसरा हुआ है।
protest at shaheen bagh
आंवला के बजरिया मोहल्ले के रहने वाले मुनब्बर ने बताया कि उनका बेटा मोहम्मद आरिफ जरी कारीगर है। वह बहू नाजिया के साथ दिल्ली के बाटला हाउस इलाके में रहता है। जरी का काम करने के साथ ही वह गुजारे के लिए ई-रिक्शा भी चलाता है। शाहीन बाग के धरना प्रदर्शन में उनके बेटा और बहू जाते थे। वहां ठंड लगने की वजह से चार महीने के पोते मो. जहान की मौत हो गई। आरिफ के एक बेटा और एक बेटी और हैं।

इसकी खबर जब आंवला आई तो उनके रिश्तेदार और जान पहचान वाले घर में इकट्ठे होने लगे। मासूम की मौत से घर का हर शख्स उदास है। हालांकि इसके बावजूद उनका कहना है कि एनआरसी और सीएए को सरकार वापस ले। मो. जहान के चाचा मो. मुस्तकीम ने बताया कि प्रधानमंत्री और गृहमंत्री से सीएए को वापस लेने की मांग की है। उनका कहना है कि उनका नन्हा सा बच्चा अब वापस नहीं आ सकता। मगर जनता की भलाई के लिए सरकार कानून वापस ले सकती है।

लंबे समय से दिल्ली मेंं रह रहा था आरिफ
आरिफ कई साल पहले शादी के बाद ही दिल्ली चला गया था। वहां बाटला हाउस में झोपड़ी में रहता है। पति और पत्नी दोनों धरना प्रदर्शन में शामिल होते थे। वह बेटे को बारी-बारी से लेते थे। बेटे को भी उन्होंने सीएए के प्रोटेस्ट वाली कैप पहना रखी थी।

Follow Us