गैंगस्टर विकास दुबे के पुलिस एनकाउंटर में मारे जाने के बाद उसके साले की पत्नी पुष्पा ने कहा कि उसे
उसके गुनाहों की सजा मिल गई। पुष्पा ने यूपी एसटीएफ से पति और बेटे को छोड़ने की गुहार लगाई है।

पुष्पा का कहना है कि आदर्श (बेटा) अभी 12वीं में पढ़ता है। डर है कि कहीं पुलिस उसे इस मामले में न फंसा
दे। विकास एनकाउंटर में मारा गया है। अब पुलिस को पति और बच्चे को छोड़ देना चाहिए।

दरअसल विकास का साला ज्ञानेंद्र अपने परिवार के साथ शहडोल बुढ़ार कस्बे में रहता हैं। ज्ञानेंद्र करीब 20
साल पहले विकास के साथ कानपुर में रंगदारी का काम करता था। फिर शादी के बाद ज्ञानेंद्र शहडोल बुढ़ार
कस्बे में आकर बस गया।

सोमवार को पुलिस उसके बेटे आदर्श को उठा ले गई। विकास के साले ने अपने
बेटे यूपी एसटीएफ के द्वारा ले जाने के बाद एसपी से मुलाकात की उसके बाद उसे भी थाने में रोक लिया
गया।

बता दें कि विकास दुबे को गुरुवार को उज्जैन से गिरफ्तार किया। वहीं शुक्रवार को कानपुर के पास यूपी
एसटीएफ ने एनकाउंटर कर दिया।

पुष्पा ने कहा कि हमारा विकास दुबे से दूर दूर तक कोई नाता नहीं है। हमें शांति की जिंदगी मिले इसलिए हम
17 साल पहले शहडोल बुढ़ार में आकर रखने लगे। मेरा बेटा छोटा है। उसके भविष्य को लेकर चिंता है। मेरा
एक छोटा बेटा और है।

पुलिस अधिकारी जो नंबर देकर गए थे वो नंबर नहीं उठ रह है। मेरे पति बेटे को कुछ हो गया तो मेरा क्या
होगा। आगे कहा कि मेरी यूपी एसटीएफ से गुजारिश है कि दोनों को छोड़ दिया जाए।

Follow Us