राजस्थान में सियासी हलचल कम नहीं हुई है। बुधवार को स्पीकर डॉ सीपी जोशी ने सचिन पायलट समेत 19
कांग्रेस विधायकों को नोटिस भेजा था। गुरुवार को सचिन पायलट हाइकोर्ट पहुंच गए और पायलट समेत
18 विधायकों ने याचिका में स्पीकर के नोटिस को रद्द करने की बात की। वहीं गुरुवार दोपहर तीन बजे
जस्टिस सतीश चंद्र शर्मा ने ऑनलाइन सुनवाई की। पहली सुनवाई में पायलट खेमे ने याचिका में संशोधन
का वक्त मांगा। फिर पांच बजे सिंगल बेंच की सुनवाई की अब मामला डबल बेंच में भेज दिया गया है।
हालांकि समय कोई तय नहीं किया गया है। जस्टिस तय करेंगे कि कब सुनवाई होगी।

खंडपीठ को रेफर की गई याचिका
सचिन पायलट के पक्ष की सुनवाई करते हुए सभी पक्षों की बहस खत्म करने के बाद राजस्थान हाइकोर्ट ने
याचिका को स्वीकार करते हुए याचिका को खंडपीठ रेफर किया है। हालांकि इसपर अभिषेक मनु सिंघवी ने
याचिका का विरोध किया है उनका कहना है कि याचिका बिना किसी आधार के कैसे स्वीकार की गई है।

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने तंज कसा
कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने पायलट पर तंज कसते हुए कहा कि सचिन पायलट ने कहा है कि वो भाजपा में
शामिल नहीं होंगे मुझे लगता है मानेसर में रुके विधायक हरियाणा की भाजपा सरकार की निगरानी में
छुट्टियां मना रहे हैं। लेकिन घर वापसी का क्या ?

इसके साथ ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सचिन पायलट पर सीधा गंभीर आरोप लगाया उन्होंने कहा कि
पायलट भाजपा के साथ मिलकर सरकार गिराने की कोशिश में लगे थे। मेरे पास इसका सबूत भी है।

Follow Us