• रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 3 दिन के लिए रूस दौरे पर रवाना
  • भारत और रूस की रक्षा को लेकर भी होगी बात
  • रक्षा मंत्री मॉस्को के 75वें विक्ट्री परेड में शामिल होंगे

भारत चीन सीमा विवाद के चलते सोमवार को रक्षा मंत्री तीन दिनों के लिए रूस दौरे पर रवाना हो गए हैं. मीडिया रिपोर्ट माने तो दोनों देशों के बीच रक्षा को लेकर राजनीतिक चर्चा होने की उम्मीद है.

कोरोना के चलते अब इक्विपमेंट समुद्र से नहीं प्लेन से आएंगे

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक रक्षा मंत्री ने रूस से सुखोई-30एमकेआई, मिग29 टी-90 और किलो क्लास सबमरीन के इक्विपमेंट की अर्जेंट सप्लाई की मांग की करेंगे. माना यह जा रहा है कि पहले ये इक्विपमेंट समुद्र के रास्ते से आते थे. जबकि कोरोना वायरस के चलते प्लेन से सप्लाई करने की बात सामने आई है.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के रूस रवाना होने से पहले उन्होंने एक ट्वीट किया था, कहा कि रूस दौरे में भारत और रूस के बीच रक्षा और राजनीतिक साझेदारी को लेकर चर्चा होगी. इसके साथ ही मैं मॉस्को में 75वें विक्ट्री परेड डे में भी शामिल होऊंगा. जानकारी मिली है, कि रक्षा मंत्री के साथ रक्षा सचिव अजय कुमार भी गए हैं.

जानकारी यह भी मिली है कि रक्षा मंत्रालय ने रविवार को स्पुतनिक को बताया कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु को भारत चीन के तनाव के बारे में भी चर्चा करेंगे. इन बीच रक्षा मंत्री चीनी अधिकारियों से भी मुलाकात करेंगे. सूत्रों के मुताबिक कोरोना के चलाते रूस ने एस-400 डिफेंस सिस्टम की डिलीवरी दिसंबर 2021 तक करने की बात सामने आई है. भारत ने पिछले ही साल रूस को 40 हजार करोड़ का भुगतान किया था.

Follow Us