भारत चीन विवाद के बीच चीन ने अपना पहला मानवरहित हेलीकॉप्टर AR500C बनाया है। चीन के इस मानव रहित हेलीकॉप्टर ने 20 मई को पूर्वी चीन के जियांग्शी प्रान्त के पोयांग में अपनी पहली उड़ान भरी। ये हेलीकॉप्टर सैन्य परीक्षण,सूचना प्रसारण,इलेक्ट्रॉनिक व्यवधान, बड़ी ऊंचाई से आग के हमले जैसे मिशन करने में सक्षम है।

विश्लेषकों के अनुसार, यह हेलीकॉप्टर आसानी से संचालित हो सकता है, जिसके कारण इससे चीन भारत-चीन की दक्षिण पक्षिमी सीमा की जासूसी कर सकता है। चाइना सेंट्रल टेलीविज़न (CCTV) के अनुसार अपनी पहली उड़ान के दौरान AR500C ने होवरिंग, हॉरिजॉन्टल,वर्टिकल मूव्स,

और हॉरर सहित कई युद्धाभ्यास किए।

सैन्य परीक्षण और सूचना प्रसारण है मेन मिशन

इस हेलीकॉप्टर AR500C का मेन मिशन सैन्य परीक्षण और सूचना प्रसारण है। एवीआईसी के बयान के अनुसार, जब इसको अतिरिक्त उपकरणों से लैस किया जाता है, तब यह इलेक्ट्रॉनिक व्यवधान, लक्ष्य को भेदने,आग का हमला करने, कार्गो डिलीवरी करने,परमाणु विकिरण और केमिकल हमला, सैन्य परीक्षण का भी पता लगा सकता है।

क्या है खास इस हेलीकॉप्टर में

चीन का पहला मानव रहित हेलीकॉप्टर AR500C पठार क्षेत्रों में उड़ान भरने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह हेलीकॉप्टर 5,000 मीटर की ऊँचाई पर उड़ान भर सकता है और इसकी छत 6,700 मीटर है। एक बार चार्ज करने पर यह पांच घंटे तक ही चल सकता है। इसकी अधिकतम स्पीड 170 किलोमीटर प्रति घंटे की है, और अधिकतम वजन

500 किलोग्राम है। अत्यधिक डिजिटल और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आधारित यह हेलीकॉप्टर स्वचालित रूप से उड़ान भर सकता है। एवीआईसी की हेलीकॉप्टर शाखा के प्रौद्योगिकी निदेशक फैंग योंगहोंग ने कहा, “हम रोटार के लिए उन्नत वायुगतिकीय डिजाइन का उपयोग किया हैं। क्योंकि इंजन की शक्ति पठारों पर बहुत कम हो जाती है, इसलिए हमने इसमें चीन के सबसे उन्नत इंजन का उपयोग किया हैं। इस हेलीकॉप्टर को आसानी से एक कीबोर्ड और एक स्क्रीन के माध्यम से नियंत्रित किया जाता है। AR500C की पहली उड़ान ने रोटर और इंजन डिजाइन जैसे क्षेत्रों में एक महत्वपूर्ण तकनीकी सफलता को हासिल किया है।

भारत चीन सीमा तनाव के बीच आई उड़ान की खबर

AR500C की परीक्षण उड़ान ऐसे समय में आई है जब चीन-भारत सीमा पर तनाव बढ़ रहा है, क्योंकि चीनी सीमा रक्षा सैनिकों ने सीमा नियंत्रण उपायों को तेज कर दिया है। हाल ही में भारत ने गालवान घाटी क्षेत्र में चीनी द्वारा सीमा पर रक्षा सुविधाओं के अवैध निर्माण के जवाब में आवश्यक कदम उठाए हैं।

चीनी सेना को काफी मदद करेगा AR500C

AR500C जैसा मानवरहित हेलीकॉप्टर भविष्य में चीनी सेना में शामिल होने पर उच्च ऊंचाई सीमा क्षेत्रों में मिशन में मदद कर सकता है, क्योंकि यह लम्बी अवधि तक सेना के गश्ती स्थानों की आसमान से चौकस नजर रख सकता है, जो कि पैदल सेना के लिए कठिन हैं।

एवीआईसी की हेलीकॉप्टर शाखा AV500 और इसके जैसे सैन्य परीक्षण करने वाले AV500W सहित अन्य प्रकार के मानवरहित हेलीकॉप्टरों का भी विकास कर रहा है। उनमें से कुछ हेलीकॉप्टर पठारों तक भी पहुंच सकते हैं।

Follow Us