the india rise news vande bharat

रेलवे ने शुक्रवार को चीन को एक बड़ा झटका दिया है   कंपनी का संबंध चीन से होने के कारण टेंडर रद्द कर दिया है। अब रेलवे के मुताबिक अब इन हाईस्पीड ट्रेनों के लिए नया टेंडर पास किया जाएगा। इस नए टेंडर में मेक इन इंडिया को प्राथमिकता दी जाएगी।


 

सीमा विवाद के बाद भारत की ओर से चीनी कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई जारी है। अब चीनी को सबक सिखाने के लिए रेलवे ने शुक्रवार को चीन को एक बड़ा झटका दिया है। अब भारत मे 44 सेमी हाईस्पीड वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन बनाने का ठेका रद्द कर दिया है। रेलवे के ट्वीट कर जानकरी दी। शुक्रवार देर रात यह फैसला लिया गया है।

 

 

जल्द जारी किया जाएगा नया टेंडर

रेलवे के मुताबिक अब इन हाईस्पीड ट्रेनों के लिए नया टेंडर पास किया जाएगा। इस नए टेंडर में मेक इन इंडिया को प्राथमिकता दी जाएगी।

 

जानकारी के मुताबिक 16 डिब्बे वाली 44 वंदे भारत सेमी हाईस्पीड के लिए इलेक्ट्रिक उपकरण और अन्य सामानों की पूर्ति के लिए 6 कंपनियों ने टेंडर डाला था। इसमें से चीनी उद्दम सीआरआरसी-पायोनियर प्राइवेट लिमिटेड एक मात्र विदेशी कंपनी थी, लेकिन चीन से इसका संबंध होने के कारण टेंडर रद्द कर दिया गया। चीन की कंपनी सीआरआरसी योंगजी इलेक्ट्रिक कंपनी लिमिटेड और गुड़गांव की पायोनियर इलेक्ट्रिक (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड ने 2015 में यह जॉइंट वेंचर बनाया था।

 

इन कंपनियों ने लगाई बोली

● भारत हेवी इलेक्ट्रिकल लिमिटेड 

● भारत इंडस्ट्रीज

● इलेक्ट्रोवेव्स इलेक्ट्रॉनिक्स प्राइवेट लिमिटेड

● मेधा सर्वो ड्राइव्स प्राइवेट लिमिटेड

● पावरनेटिक्स इक्विपमेंट इंडिया प्राइवेट लिमिटेड 

 

किस रूट पर चलती है वंदे भारत 

वंदे भारत ट्रेन देश के दो रूट पर संचालित की जाती है। 2019 में प्रधानमंत्री ने दिल्ली वाराणसी रूट पर देश की पहली वंदे भारत ट्रेन को हरी झंडी दिखाई गई थी। वहीं दूसरी  वंदे भारत ट्रेन दिल्ली से कटरा चलाई गई। इस ट्रेन को गृह मंत्री अमित शाह ने 3 अक्टूबर 2019 को हरी झंडी दिखाई।

Follow Us