प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सोशल मीडिया छोड़ने का ट्वीट देखते ही देखते ट्विटर पर सबसे चर्चित मुद्दा बन गया। दो घंटे में ही एक लाख से ज्यादा लोगों ने लाइक किया, 35 हजार से ज्यादा लोगों ने री-ट्वीट किया। वहीं, 70 हजार से ज्यादा लोगों ने कमेंट किए। पीएम ने अपने इरादे की वजह नहीं बताई, न ही यह बताया कि क्या अपने सोशल मीडिया एकाउंट्स डिलीट करेंगे या डिएक्टिवेट (निष्क्रिय) या उनसे केवल उनसे दूरी बना लेंगे।
pm narendra modi
प्रधानमंत्री द्वारा यह ट्वीट करने के कुछ ही देर बाद ही ट्विटर पर #NoSir टॉप पर ट्रेंड करने लगा। दुनिया में यह हैशटैग तीसरा सबसे ज्यादा चर्चित हो गया। इसे समर्थन करने वालों ने पीएम से सोशल मीडिया न छोड़ने की अपील की। वहीं, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, सपा प्रमुख अखिलेश यादव सहित तमाम नेताओं ने इसे लेकर तंज कसा।

डॉ. संदीप मित्तल आईपीएस ने लिखा, यदि ऐसा करते हैं तो सोशल मीडिया कंपनियों के शेयर लुढ़क जाएंगे। देशद्रोहियों की दुकान बंद हो जाएंगी और भारत से कमाने वाली कंपनियां भारत को आंख दिखाना बंद कर देंगी। इसलिए इन्हें बैन किया जाए। रुद्र आर शर्मा ने लिखा, कोई भारतीय मीडिया प्लेटफॉर्म लाने की तैयारी है। अगर ऐसा तो यह क्रांतिकारी कदम होगा।

आप हमसे दूर मत जाइए
एक यूजर अरुण यादव ने लिखा, आदेश नहीं कर सकते, पर निवेदन तो कर सकते हैं। आप ऐसा करते हैं तो हमसे दूर चले जाएंगे। इस माध्यम से लगता है, आप अभिभावक के तौर पर हमारे इर्द-गिर्द हैं। रिद्धिमा पांडेय ने लिखा, आपका फैसला इसलिए है क्योंकि कुछ लोग सोशल मीडिया को अफवाह फैलाने का माध्यम बना रहे हैं, मैं समझ रही हूं, लेकिन सोशल मीडिया भी एक मैदान है और हमारा पीएम मैदान छोड़े हमें मंजूर नहीं। आईएम अंकिता यादव ने लिखा, अगर आप नहीं तो हम भी नहीं।

हमारे सवालों का जवाब दीजिए
कुछ यूजर्स ने पीएम पर निशाना भी साधा। हंसराज मीणा ने लिखा, भागिए मत, सवालों का जवाब दीजिए। रुचिरा चतुर्वेदी ने लिखा, सोशल मीडिया समस्या नहीं है। समस्या ट्रोल हैं। आप ट्रोल्स को फॉलो करना बंद करिए।

5.33 करोड़ फॉलोअर
मोदी के 5.33 करोड़  फॉलोअर हैं। मोदी ने 2,373 को फॉलो किया है। वे 25.9 हजार ट्वीट कर चुके हैं। फेसबुक पर मोदी के 4.47 करोड़ फॉलोअर हैं। इंस्टाग्राम पर मोदी के 3.52 करोड़ फॉलोअर हैं।

Follow Us