अगर आप लॉकडाउन में घर पर आराम से बैठे हैं तो सचेत हो जाएं क्योंकि आपको भीषण गर्मी का सामाना करना पड़ सकता है.

मौसम विभाग की माने तो बताया यह जा रहा है कि UP में भीषण गर्मी पड़ने के आसार हैं. आने वाली 22 से 25 मई तक महसूस की जा सकती हैं हीटवेव्स.

किन किन शहरों को झेलनी पड़ सकती है गर्मी का मार

माना यह जा रहा है, कि बुन्देलखण्ड, आगरा, झांसी, बांदा हमीरपुर, उरई, जालौन में आने वाले 4 दिनों में हीट वेव्स चलने की संभावना जाहिर की हैं .

बाकी शहरों का क्या होगा हाल

बता दें की झांसी और आगरा का तापमान 43 के करीब पहुंच गया है. लेकिन इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं की प्रदेश के बाकी शहरों में इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा. गोरखपुर, बरेली, मुरादाबाद, शाहजहांपुर में भी तापमान में तेजी दिखेगी.

ये हीटवेव क्या है ?

लंबे समय तक अत्यधिक तेज गर्म हवा चलती है तो उसे हीटवेव कहते हैं. आईएमडी के मुताबिक, एक स्थान का अधिकतम तापमान मैदानी इलाके में 44 डिग्री से अधिक हो जाए तो वहां हिटवेव महसूस की जा सकती हैं. हीटवेव को आम भाषा में लू भी कहते हैं.

चलिए जानते हैं उन सवालों के जबाब जो मन में ही रह जाते हैं,  या आमतौर पर लोग इसका जबाब देना पसंद नही करते.

क्या भारत में हीटवेव होना आम बात है ?

जी हां भारत में हीटवेव होना आम बात है. हर साल मई और जून के महीने से ही हीटवेव चलने लगती हैं. भारत के ज्यादातर शहरों को हर साल हीटवेव का सामना करना पड़ता है.

क्या बाकी पूर्वानुमानों की तरह हीटवेव का भी अनुमान लगाया जा सकता है ?

आईएमडी के मुताबिक आने वाले 4 हफ्तों के लिए साप्ताहिक तौर पर हीटवेव का अनुमान लगाया जा सकता है. साथ ही उप-मण्डल के स्तर पर ग्रैफिकल चेतावनियां भी जारी कर दी जाती हैं.

इंसान पर हीटवेव का क्या और कितना प्रभाव पड़ता है.

NCRBनेशनल क्राइम ब्यूरो के मुताबिक हीटवेव का हम पर अधिक प्रभाव पड़ता है. NCRB ने इसे मौत का तीसरा सबसे बड़ा कारण बताया है. हीटवेव [ लू ] शरीर में पानी की मात्रा को अत्यधिक कम कर देता है. जिस कारण मृत्युदर बढ़ जाती है.

हीटवेव से बचने के लिए सरकार ने क्या कोई उपाए निकाला है ?

सरकार ने राष्ट्रीय पंजीकरण में हीटवेव को प्राकृतिक आपदा नहीं माना है. केन्द्र सरकार ने हीटवेव को सूखे का नाम दिया है.

 

हीटवेव से हम कैसे बच सकते हैं

  • खाने में तरल पदार्थ का प्रयोग करें

  • बार- बार अधिक से अधिक पानी पिएं

  • रोज सुबह एक्सरसाइज करें

  • धूप में जाने से बचें

  • ओवर फूडिंग से बचें

  • गर्मियों में जंक फूड कम खाएं

  • हल्के रंग के ढीले कपड़ी पहनें

  • खाने में ककड़ी, तरबूज, नारियल, बेक का करें प्रयोग

  • शराब, कौफीन लेने से बचें यह डिहाइड्रेशन का कारण बनते हैं

Follow Us