जानिए वर्किंग वीमेन (Working Women) के बच्‍चे क्‍यों निकल रहे हैं अंडरवेट:इंटरनेशनल जर्नल ऑफ करंट रिसर्च एंड रिव्यू में प्रकाशित एक सर्वे के अनुसार गृहणियों के बच्चे कामकाजी महिलाओं के मुकाबले शारीरिक रूप से ज्यादा सक्षम होते हैं। सर्वे के तहत बरेली के 512 स्कूली छात्रों का परीक्षण किया गया। इसमें कामकाजी महिलाओं के बच्चे शारीरिक रुप से कमजोर निकले। सिर्फ 46.8 फीसदी बच्चे ही सामान्य मिले।

यूनिवर्सिटी ऑफ गौर बांगा, मालदा के नजीबुर रहमान, संदीप कुमार दाश और बिप्लव गिरी एवं एमयूसी वीमन कालेज वर्धमान के सुरजीत दास और डा काजी मंजूर अली ने देश भर के स्कूलों के छात्रों पर शोध किया। न्यूट्रिशनल स्टेटस ऑफ प्राइमरी स्कूल चिल्ड्रन इन डिफरेंट पाट्र्स ऑफ इंडिया नाम से यह शोध इंटरनेशनल जर्नल ऑफ करंट रिसर्च एंड रिव्यू में प्रकाशित हुआ है। शोध के तहत बरेली के भी 512 स्कूलों के पांच वर्ष से 15 वर्ष तक के बच्चों पर अध्ययन किया गया। अध्ययन में 46.8 फीसदी बच्चे ही सामान्य मिले। 38.4 फीसदी बच्चे अंडर-वेट पाए गए। शोध में पाया गया कि कामकाजी महिलाओं के बच्चों में पोषक तत्वों की ज्यादा कमी है। जबकि घरेलू महिलाओं के बच्चे अधिक स्वस्थ मिले। उनका पोषण स्तर भी ज्यादा अच्छा पाया गया।

ग्रामीण क्षेत्र के बच्चे ज्यादा कमजोर
सर्वे में यह निकलकर आया कि ग्रामीण क्षेत्र के बच्चे ज्यादा कमजोर हैं। कुपोषित बच्चों की बड़ी संख्या भी इन क्षेत्रों में ही निकलकर आई है। इसका सबसे बड़ा कारण सामाजिक और आर्थिक पिछड़ापन है। शिक्षा की कमी, साफ-सफाई के प्रति जागरुकता नहीं होना भी बीमारी फैलने का एक बड़ा कारण है।

कुपोषण के खिलाफ जंग होगी तेज
सामाजिक कार्यकर्ता मोहित अग्निहोत्री ने बताया कि शोध की रिपोर्ट और अनुशंसाओं के आधार पर कुपोषण के खिलाफ जंग और तेज होगी। गांव-गांव जाकर लोगों को जागरुक किया जाएगा। जिला प्रशासन की मदद से स्कूलों में पोषक तत्वों का निशुल्क वितरण किया जाएगा।

ऐसे होगा सुधार
स्कूलों में छात्रों को सुबह के नाश्ते में पोषक तत्व दिए जाएं
बच्चों के खानपान का कैलेंडर तैयार कराया जाए
पोषण जागरुकता को अभिभावकों साथ बैठकें
गरीब बच्चों के लिए हेल्थ केयर सुविधा

यहां भी किया गया शोध

करीमनगर, तेलंगाना
मांड्या, कर्नाटक
मैसूर, कर्नाटक
दक्षिण कन्नड़-कर्नाटक
किन्नौर, हिमाचल प्रदेश
अहमदाबाद, गुजरात
टिहरी गढ़वाल, उत्तराखंड
बरहामपुर, उड़ीसा
उत्तरी 24 परगना, पश्चिमी बंगाल
कोच्ची, केरल
चंडीगढ़

Follow Us