इस साल जून महीने की शुरुआत ही गंगा दशहरा (1 जून) से होने वाली है.

गंगा दशहरा ज्येष्ठ शुक्ल दशमी ( 1 जून 2020) :

गंगा जी देवनदी हैं, वे मनुष्य मात्र के कल्याण के लिए धरती पर आई, धरती पर उनका अवतरण

ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की दशमी को हुआ।  अतः यह तिथि उनके नाम पर गंगा दशहरा के नाम से प्रसिद्ध हुई। ज्येष्ठ शुक्ल दशमी संवत्सर का मुख कही जाती है।

 ज्येष्ठस्य शुक्लादशमी संवत्सरमुखा स्मृता तस्यां स्नानं प्रकुर्वीत दानं चैव विशेषत:

 इस तिथि को गंगा स्नान एवं श्री गंगा जी के पूजन से 10 प्रकार के पापों  (3 कायिक, 4 वाचिक तथा 3 मानसिक) का नाश होता है इसलिए ऐसे दशहरा कहा गया।

पूजा में 10 प्रकार के पुष्प,  दशांग धूप, दीपक, 10 प्रकार के नैवेद्य, 10 तांबूल तथा 10 फल होने चाहिए, दक्षिणा भी 10 ब्राह्मणों को देना चाहिए।

निर्जला एकादशी: ( जून 2020)

ज्येष्ठ  मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी  निर्जला एकादशी कहलाती है।अन्य महीनों की एकादशी को फलाहार किया जाता है परंतु इस एकादशी को जलग्रहण करना भी निषेध है।  व्यास जी के आदेशानुसार भीमसेन ने एकादशी का व्रत किया था, इसलिए यह एकादशी *भीमसेनी एकादशी* के नाम से भी प्रसिद्ध है। स्कंद पुराण का मत है की ज्येष्ठ मास के शुक्लपक्ष में जो शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि है, उसमें निर्जला उपवास कर जल से भरे हुए कुंभो तथा चीनी के सहित  ब्राह्मणों या मंदिर में देने से विष्णु के सानिध्य में हर्ष होता है।

प्रथम उपच्छाया चंद्रग्रहण

प्रथम उपच्छाया चंद्रग्रहण 5 / 6 जून 2020 (शुक्र / शनि) यह अच्छा या चंद्र ग्रहण आरंभ से समाप्ति तक भारत में देखा जा सकेगा। ज्योतिर्विद डॉ0 सौरभ शंखधार कहते है ध्यान रहे उपच्छाया चंद्रग्रहण वास्तव में चंद्रग्रहण नहीं होता, इस ग्रहण की समय अवधि में चंद्रमा की चांदनी में कुछ धुंधलापन सा जाता है।

इसे ग्रहण की मान्यता नहीं होगी किसी तरीके का सूतक का विचार नहीं होगा

*कंकण (चूड़ामणिसूर्य ग्रहण (21 जून 2020 आषाढ़ अमावस रविवार)*:

 

आगे बताते हुए सौरभ शंखधार के अनुसार,

इस कंकण आकृति सूर्य ग्रहण 21 जून 2020 की प्रातः से दोपहर तक संपूर्ण भारत में खंडग्रास के रूप में दिखाई देगा। इस ग्रहण की कंकण आकृति केवल उत्तरी राजस्थान, उत्तरी हरियाणा तथा उत्तराखंड राज्य के उत्तरी क्षेत्र में से गुजरेगी। भारत के अतिरिक्त यह ग्रहण दक्षिण पूर्वी यूरोप,ऑस्ट्रेलिया के केवल उत्तरी क्षेत्रों गियाना, फिजी, अधिकतर अफ्रीका

(दक्षिण देशों को छोड़कर), प्रशांत ब हिंद महासागर, मध्य पूर्वी एशिया (अफगानिस्तान, पाकिस्तान, मध्य दक्षिण चीन, फिलीपींस) में दिखाई देगा।

 

ग्रहण का समय

ग्रहण प्रारंभ:            09:15:58

परम ग्रास (मध्य):    12:10:04

ग्रहण समाप्ति:         15:04:01

भड़ल्या नवमी के दो दिन बाद ही सो जाएंगे देवफिर पांच माह तक नहीं हो सकेंगे मांगलिक कार्य।

आषाढ़ मास (6 जून से 5 जुलाई) में पांच शनिवार तथा पांच रविवार आने से रविवारी संक्रांति (14 जून), 28 जून तक गुरु शुक्र मध्य *नव पंचक योग* रहने से तथा 21 जून को *रविवारी अमावस्या* के दिन *कंकण सूर्यग्रहण* घटित होने से आवश्यक वस्तुओं जैसे दूध, ईधन, सब्जियां, तेल आदि के भाव में अत्यधिक तेजी सामान्य लोगों में क्लिष्ट रोगों की उत्पत्ति, लोगों में पारस्परिक प्रेम की कमी तथा पूर्वोत्तर दिशा में कहीं राज भंग, अग्निकांड, युद्धआदि का भय हो।

 

जून माह में  पड़ने वाले ख़ास काल और दिन

  • गंगा दशहरा

  • निर्जला एकादशी 2 जून

  • उपच्छाया चंद्र ग्रहण ( 5/6 जून) : भारत मे अमान्य

  • मिथुन संक्रांति ( सूर्य का मिथुन राशि मे प्रवेश) 14 जून

  • मीन राशि मे मंगल का प्रवेश 18 जून

  • 21 जून कंकड़ सूर्य ग्रहण

  • गुप्त नवरात्रि 22 जून

  • भद्दली नवमी (अबूझ तिथि) 29 जून

  • गुरु का स्वराशि (धनु) में प्रवेश 30 जून

Follow Us