बस स्टेशन, रेलवे प्लेटफार्म पर चार्जिंग प्वाइंट से फोन चार्ज करने वाले लोगों के लिए सावधान रहने की जरुरत है। हैकर्स ने चार्जिंग प्वाइंट की यूएसबी में भी सेंध लगा दी है। इसे विशेषज्ञों ने जूस जैकिंग का नाम दिया है। ऐसे चार्जिंग प्वाइंट से फोन चार्ज करते ही फोन के  डेटा के साथ ही बैंक खाते से पैसा भी साफ हो जाएगा। देश भर में ऐसे केस पकड़े जाने के बाद स्टेट बैंक, एक्सिस बैंक आदि ने अपने ग्राहकों के लिए एडवाइजरी जारी की है।

सार्वजनिक स्थलों पर लगे चार्जिंग प्वाइंट में हैकर्स ने सेंध लगा दी है। इसको जूस जैकिंग कहा जा रहा है। जूस जैकिंग एक तरह का साइबर हमला है। इसमें चार्जिंग केबल या पोर्ट के जरिए अंजाम दिया जा रहा है। इसमें  हैकर एक अतिरिक्त चिप लगा देते हैं। जो आपके फोन में मालवेयर इंस्टाल कर देती है। उसके बाद हैकर आपके फोन का कहीं से भी बैठे बैठे इस्तेमाल कर सकता है। इस तरह से न केवल वो फोन से पूरा डाटा कॉपी कर सकता है। बल्कि आपके पासवर्ड, ओटीपी आदि को देखकर बैंक खातों से पैसा भी उड़ा सकता है। कई लोगों के साथ इस तरह की घटनाएं हो चुकी हैं। उसके बाद ही स्टेट बैंक, एक्सिस बैंक आदि ने लोगों को सचेत रहने के लिए कहा है। लोगों से अपील की गई है कि वो सार्वजनिक स्थलों पर लगे चार्जिंग प्वाइंट का इस्तेमाल नहीं करें।

सतर्कता से ही हो सकता है बचाव
हैकर्स के हमले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। हैकर्स नए-नए तरह से लोगों को चूना लगा रहे हैं। हम सभी को सतर्क रहने की जरूरत है। स्टेट बैंक ने अपने सभी ग्राहकों को जूस हैंकिंग के प्रति सतर्क किया है। हमारी सतर्कता ही बचाव का सबसे बड़ा तरीका है। उसके बाद भी यदि किसी के पैसे खाते से निकल जाते हैं तो वो तत्काल बैंक और पुलिस को सूचना दे।

यह बरतें सावधानी
1-अपना चार्जर, यूएसबी केबल और यूएसबी पोर्ट साथ लेकर चलें
2-फोन के साथ में अपना पावर बैंक जरूर रखें
3-किसी भी सार्वजनिक स्थल के चार्जिंग प्वाइंट का इस्तेमाल नहीं करे
4-अपने फोन में एंटी वायरस एप को इंस्टाल करें। इससे डाटा चोरी नहीं हो सकेगा

Follow Us