कोराना संकट में पुलिस लोगों की हर संभव मदद कर रही है।

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में एक बेसहारा वृद्धा के लिए पुलिस देवदूत बन कर आई।

बीमार वृद्धा को पुलिस ने न सिर्फ उपचार दिलाया बल्कि उपचार के दौरान मौत के बाद उसके शव को कंधा देकर मानवता का धर्म भी निभाया।
सहारनपुर के गांव जड़ौदा पांडा के मजरे में एक बेसहारा बीमार करीब 70 वर्षीय वृद्धा मीना समय से बीमार थी। कोरोना के चलते कोई उनकी मदद को आगे नहीं आ रहा था। मामला पुलिस के संज्ञान में आने पर मंगलवार को पुलिस ने वृद्धा को खाना खिलाया और उपचार के लिए नानौता अस्पताल में भर्ती कराया। जहां रात में उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सराहा
दलित महिला का संस्कार करने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सहारनपुर पुलिस को सराहा।
देश के साथ प्रदेश की कोरोना वायरस के संक्रमण के कहर से इन दिनों बुरी तरह से कराह रहा है। इसी कठिन घड़ी में अपना घर-परिवार छोड़कर ड्यटी में लगे पुलिसकर्मी उन जाहिलों को आइना दिखा रहे हैं, जो कि उनके ऊपर पथराव करने में लगे हैं। प्रदेश में सरकारी कर्मियों पर कोरोना वायरस के संक्रमण के दौर में भी पथराव हो रहे हैं, फायरिंग हो रही है और तो और कहीं पर तो लाठी-डंडे भी चल रहे हैं। इनके बीच भी खाकी अपने कर्तव्य से पीछे नहीं हट रही है।
 मुखाग्नि गांव के ही नरेंद्र ने दी। पुलिस टीम के कंधा देने के फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इस पर मंडलायुक्त संजय कुमार ने कहा कि पुलिसकर्मियों ने मानवता की मिसाल पेश की है।
सीएचसी प्रभारी अमित कुमार ने बताया कि खून की कमी की वजह से महिला के हार्ट ने काम करना बंद कर दिया था। जिसके कारण उसकी मौत हो गई थी।
Follow Us