कोरोना से बचने में अब मदद कर रहा है संजीवनी ऐप. लोगों को अब आयुष मंत्रालय एडवाइजरी से अवगत करवाया जा रहा है. लोगों तक इस ऐप को जल्दी पहुंचाने के लिए सीएससी संचालकों को जिम्मेदारी दी गई है.

संक्रमण अब अपनी चरम सीमा पर पहुंच चुका है, लगभग सभी कम्पनियां इसका उपाय ढूंढने में लगी हैं. वहीं आयुष मंत्रालय भी इस कोरोना जंग में आयुर्वेदिक सलाह लगातार दे रहा है. लोग इसे आसानी से समझ पाएं इसलिए मंत्रालय ने आयुष ऐप जारी किया है. ताकी लोग इसके नुस्खें, और रोगों से जुड़े लक्षणों को लोग समय पर जान सकें. और उनका इलाज कर सकें. इसकी जिम्मेदारी सीएससी यानी कॉमन सर्विस सेंटर को सौपी गई है. सीएससी संचालक लोगों से ऐप डाउनलोड करवाएंगे, जिसके बदले में शासन उनका भुगतान करेगा.

इस ऐप की जानकारी के लिए सबके पहले 1500 लोगों के फोनों में  यह ऐप इंस्टाल करवाया जाएगा साथ ही कोरोना वायरस से जुड़े कुछ प्रश्न और व्यवस्था को लेकर प्रश्न पूछे जाएंगे.

इन सब की जानकारी 21 जून तक फीडबैक के रूप में ले ली जाएगी. इनके बाद आयुष मंत्रालय एक डाटा जारी करेगा. सीएससी के कॉर्डिनेटर से जानकारी मिली है, कि संजीवनी ऐप को लगभग 800 लोगों के फोन में इंस्टाल करवाया जा चुका है. साथ ही इसके फीडबैक भी आने शुरू हो गए हैं.

Follow Us