मायानगरी में अक्सर लोग अपनी पहचान बनाने जाते हैं कोई शुरुआत से लेकर अंत तक केवल स्ट्रगल करता है तो कोई जाता ही हीरो बनने के लिए है. कुछ ऐसा ही अमरीश पुरी के साथ हुआ. अमरीश पुरी ने लगभग 400 यादगार फिल्में बॉलीवुड को दी हैं. अमरीश पुरी का जन्म पाकिस्तान के लाहौर में 22 जून 1932 में हुआ. और 12 जनवरी 2005 में उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया.

अमरीश पुरी की बॉलीवुड इंडस्ट्री के साथ सुनहरी यादें आज भी ताजा हैं. उन्होंने अपने किरदार को हमेशा के लिए यादगार बना दिया.  ताकतवर खलनायक और मोगैंबो आज भी लोगों के जहन में है

पर क्या आपको पता है कि “मोगैंबो खुश हुआ” डायलॉग फिल्म का हिस्सा कैसे बना

फिल्म मिस्टर इंडिया 1987 में रिलीज हुई थी. अनिल कपूर ने उसमें अहम किरदार किया था. लेकिन उससे भी ज्यादा मोगैंबो के किरदार ने अपनी जगह बना ली थी.

फिल्म रिलीज हुई और सुपर डुपर हिट गई. लेकिन उससे भी ज्यादा हिट गया था मोगैंबो का डायलॉग जो आज भी लोगों को याद है. और किसी भी वाक्या में इस डायलॉग को जरूर बोलते हैं. बॉलीवुड के सबके दिग्गज अभिनेता अमरीश पुरी ने तो अलविदा कह दिया लेकिन उनकी आवाज में ये डायलॉग आज भी ताजा है. खुशी जाहिर करनी हो या टशन जमाना हो आज भी यह डायलॉग में दमदार है. लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि कैसे इस डायलॉग को जोड़ा गया.

टीवी शो लाइट कैमरा एक्शन में अनुसार फिल्म मिस्टर इंडिया की शूटिंग शुरू हो गई थी. डायरेक्टर शेखर कपूर और राइटर जावेद अख्तर ने फिल्म की शूटिंग के काम शुरू कर दिया था. लेकिन काम और किरदार को पूछने पर टाल दिया जाता. जावेद अख्तर एक दिन सेट पर आए और उन्होंने युहीं हसी मजाक में बोल दिया मोगैंबो खुश हुआ”

शेखर बोले आगे क्या ? इसके बाद दोनों ने इस किरदार पर चर्चा की और इस किरदार को समझाया लेकिन उनके लिए इतना ही काफी नहीं था. क्योंकि डायलॉग तो छोटा था. इस पर जावेद अख्तर बोले कि लिख कर रख लो तीन पत्ती में जब भी किसी को इक्के आएंगे तो इन डायलॉग को दोहराया जाएगा. जब कपिल क्रिकेट मैच में छक्के लगाएगा, तो मैदान खड़ा होकर चिल्लाएगा और कहेगा मोगैंबो खुश हुआ

शेखर इस बात को मान गए, और फिल्म रिलीज हुई. किरदार फिल्मे और डायलॉग फेमस हो गए साथ ही जावेद अख्तर की भविष्यवाणी भी शारजाह का मैच था. इन बीच शेखर कपूर टी वी देख रहे थे. कपिल ने बैटिंग की और छक्का लगा. इन बीच फैन बैनर लेकर खड़े होकर उछलने लगे और उस बैनर हिलाने लगे जिसपर पर लिखा था मोगैंबो खुश हुआ

 

Follow Us